Breaking News

Wednesday, February 24, 2021

145 वीं जयंती : दीन-दुखियों की सेवा करने वाले संत गाडगे बाबा की मनाई गई जयंती

145 वीं जयंती : दीन-दुखियों की सेवा करने वाले संत गाडगे बाबा की मनाई गई जयंती 

Photo :  संत गाडगे

हमारी खबरों को फटाफट पढ़ने के लिए Google News पर हमें Follow करे


जाने कौन थे संत गाडगे बाबा ? 


23 फ़रवरी 1876 को महाराष्ट्र के अमरावती जिले के शेणगांव अंजनगांव में संत गाडगे बाबा का जन्म हुआ था। संत गाडगे जी का बचपन का नाम डेबूजी बतया जाता है। इनके जीवन का एकमात्र ध्येय था लोकसेवा। जो यह इनके अनुसार  ईश्वर भक्ति "दीन-दुखियों तथा उपेक्षितों की सेवा" करना है। उन्होंने अपने जीवन में महाराष्ट्र में की जगहों पर अनेक धर्मशालाएं, गौशालाएं, विद्यालय , चिकित्सालय और छात्रावासों का निर्माण कराया। संत गाडगे ने 20 दिसंबर 1956 को अपनी अंतिम साँस ली। 


आदेगांव में मनाई गई संत गाडगे महाराज जयंती 


आदेगांव के अम्बेडकर वार्ड में महान समाज सुधारक संत गाडगे महाराज जी की जयंती मंगलवार को मनाई गई। इसमें ग्रामीणों को स्वच्छता का संदेश देने का कार्य किया गया।  आयोजित कार्यक्रम में विजेन्द्र कुमार अहिरवार ने बताया कि राष्ट्रसंत गाडगे  महाराज अंधविश्वास कुरीतियों का जीवन भर विरोध करते रहे, वो कहते थे कि मनुष्य को चाहिए कि  वह हर जीव के प्रति मानवता का भाव रखे और उसकी तन-मन-धन से सेवा करें। 


भूखों को भोजन, प्यासे को पानी, नंगे को वस्त्र, अनपढ़ को शिक्षा, बेकार को काम, निराश को ढांढस और जीवों को अभय प्रदान करना ही  सच्ची सेवा है। इस अवसर अजय राठौर, नीलेश गुन्हेरिया, शुभम राठौर, आकाश अहिरवार, प्रहलाद अहिरवार, संजय अहिरवार, संदीप अहिरवार आदि उपस्थित रहे।


बहुजन समाज की सबसे तेज खबरें पाने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज 

को लाईक करें, Twitter पर फॉलो भी करे और यूट्यूब चैनल को 

सब्सक्राइब करें।

No comments:

Post a Comment